Latest News Read More...

Latest Articles Read More...

  • Jain Stotra
  • Jain Stotra
    2. Namskar Mantrastotram | नमस्कार मन्त्रस्तोत्रम

    ॥ नमस्कार मन्त्रस्तोत्रम ॥

    Read More...
  • jain Stotra
    1. Aatma Raksha Stotra | आत्मरक्षास्तोत्रम्

    आत्मरक्षास्तोत्रम्    

    Read More...
  • Mantra For Abdominal Therapy
    Mantra For Abdominal Therapy |  उदर चिकित्सा मंत्र 

     उदर चिकित्सा मंत्र ऊँ कले विकले स्वाहा | प्रयोग विधि : 21 बार मंत्र का उच्चारण कर पेट पर हाथ फेरे |  परिणाम : पेटदर्द समाप्त होता है | उदर चिकित्सा मंत्र नास्तं कदाचिदुपयासि न राहु-गम्यः स्पष्टी-करोषि सहसा युगपज्जगंति । नाम्भोधरोदर-निरुद्ध-महा-प्रभावः सूर्यातिशायि-महिमासि मुनीन्द्र लोके ॥ मंत्र संख्या  : प्रतिदिन 1 माला | प्रयोग विधि :  उदर पीड़ा के समय मंत्र से पानी…

    Read More...
  • Mantra For Healing
    Mantra For Healing | आरोग्य मंत्र   

    आरोग्य मंत्र उद्भूत-भीषण-जलोदर-भार-भुग्नाः शोच्यां दशा-मुपगताश्-च्युत-जीविताशाः । त्वत्पाद-पंकज-रजोमृतदिग्ध-देहाः मर्त्या भवंति मकर-ध्वज-तुल्य-रूपाः ॥ मंत्र संख्या  : प्रतिदिन 1 माला | परिणाम : सर्व रोगों का नाश होता है | उपसर्ग भी दूर होते है |

    Read More...
  • Mantra For Universal Victory
    Mantra For Universal Victory | सर्वत्र विजय मंत्र

    सर्वत्र विजय मंत्र मत्त-द्विपेन्द्र-मृगराज-दवानलाहि- संग्राम-वारिधि-महोदर-बन्धनोत्थम् । तस्याशु नाश-मुपयाति भयं भियेव, यस्तावकं स्तव-मिमं मतिमान-धीते ॥ प्रयोग विधि : खड़े खड़े 21 दिन तक जप करना | मंत्र संख्या  : प्रतिदिन 1 माला | परिणाम : सब दिशाओं में विजय होती है |

    Read More...
  • Mantra For Victory Supplier
    Mantra For Victory Supplier | विजय प्रदायक मंत्र 

    विजय प्रदायक मंत्र ऊँ ह्रीं श्रीं अर्हं अजितनाथाय नमः l मंत्र संख्या  : प्रतिदिन 1 माला | परिणाम : सब स्थानों में विजय प्राप्त होती है |

    Read More...
  • Mantra For Dread Deterrent
    Mantra For Dread Deterrent | भय निवारक मंत्र

    भय निवारक मंत्र ऊँ ह्रीं श्रीं अर्हं मल्लिनाथाय नमः l मंत्र संख्या  : प्रतिदिन 1 माला | परिणाम : चोर आदि का भय दूर होता है |

    Read More...
  • Mantra For Release
    Mantra For Release | बंधनमुक्ति मंत्र

    बंधनमुक्ति मंत्र आपाद-कण्ठ-मुरुशृंखल-वेष्टितांगा, गाढं बृहन्निगड-कोटि-निघृष्ट-जंघाः । त्वन्नाम-मंत्र-मनिशं मनुजाः स्मरंतः सद्यः स्वयं विगत-बन्ध-भया भवंति ॥ मंत्र संख्या  : प्रतिदिन 1 माला | प्रयोग विधि : कारावास में एकसनपूर्वक मंत्र का जप करें | परिणाम : जेल से जल्दी छुटकारा मिलता है |

    Read More...
  • Freedom From Crisis
    Mantra For Freedom From Crisis | संकट से मुक्ति मंत्र

    संकट से मुक्ति  समस्या : विपत्ति का समय मंत्र ऊँ ह्रीं लौं णमो लोए सव्व साहूणं | मंत्र संख्या  : प्रतिदिन 1 माला | परिणाम : संकर दूर होता है |

    Read More...

Latest Thoughts Read More...

Latest Videos View More...

[huge_it_videogallery id='2']

ON INSTAGRAM View More...

× CLICK HERE TO REGISTER