Pehla din Arihant ki mahima

Pehla din Arihant ki mahima

Pehla din Arihant ki mahima

जैन जगत में नवपद की महिमा अपरंपार है !

नवपद : १.अरिहंत २. सिद्ध ३. आचार्य ४.उपाध्याय ५.साधु ६.दर्शन ७. ज्ञान ८. चारित्र ९. तप !! यह आराधना वर्ष में दो बार आयंबिल तप के द्वारा की जाती है !
१. चैत्र सुदी ७ से १५ ( पूनम )
२. आसोज सुदी ७ से १५ तक ! नवपद ओली आराधना का प्रारंभ आसोज माह से किया जाता है, एवं कुल ९ ओली अर्थात् चाढ़े चार वर्ष तक कुल ८१ आयंबिल के साथ यह तप पूर्ण होता है ! नवपद आराधना में आज प्रथम पद में अरिहंत पद की आराधना की जाती है अरि यानि शत्रु हंत यानि नाश करने वाले… शत्रुओ का नाश करने वाले अरिहंत कहलाते है… अरिहन्त अपने कर्म रूपी शत्रु का नाश करते है… अगर अरिहंत नही होते तो करुणा का इतना प्रचार नही होता।।। धर्म का ज्ञान नही होता।।। शासन की स्थापना नही होती।।। in short सद्गति और पूण्य भी नही होता।।। अरिहंत परमात्मा की देशना से इन सब बातो का ज्ञान सारे जगत को हुआ अरिहन्त परमात्मा के १२ गुण होते है।।। ८ गुण देवता करते है परमात्म भक्ति से प्रेरित होकर।। ४ गुण कर्मक्षय होने पर प्रकट होते है।।।

१. अशोक वॄक्ष- जो परमात्मा के शरीर से १२ गुना बड़ा होता है।।
२. सुर पुष्प वृष्टि- परमात्मा के विचरण क्षेत्र में देवता विविध फूलों की बरसात करते है।।
३. दिव्य ध्वनि- विविध वाद्य यंत्रों को बजाकर देवता दिव्य नाद करते है।।
४. चामर युगल- अरिहंत प्रभु के दोनों तरफ देवता खड़े खड़े चामर से प्रभु की सेवा करते है।।। उसे विन्जना कहा जाता है
५. स्वर्ण सिंहासन- प्रभु के बैठने के लिए दिव्य सिंहासन की रचना देवता करते है।।
६. भामंडल- प्रभु के मस्तक के पीछे सूर्य के सामान जो आभामंडल होता है जिसे भामंडल कहते है।। इस भामंडल के द्वारा ही हम अरिहंत प्रभु का मुख को निहार सकते है।
७. देव दुंदुभी- से दिव्य नाद द्वारा देवता सभी दिशाओ में प्रभु की जय जयकार करते है।।
८. छत्र- प्रभु के सर के ऊपर ३ छत्र की रचना देवता करते है। कर्मक्षय से प्रकट होने वाले गुण 1 ज्ञानातिशय २ पूजातिशय ३ वचनातिशय। ४ अपायापगमातिशय।। ऐसे गुण संपत्ति वाले देव देवेंद्रो से पूजित, तीन लोक के आधार अरिहंत परमात्मा को मैं नमस्कार करता हूँ। जगत में पूजनीय वंदनीय सेवनीय और तारने वाले ये एक ही उत्तम आत्मा है।। ऐसा सोचकर नवकार के प्रथम पद से हमे अरिहंत परमात्मा को भाव पूर्वक वंदन करना चाहिए। अरिहंत पकर्मात्मा की आराधना के लिए १२ खमासमन १२ लोगस्स का काउसग्ग १२ नवकार मंत्र की माला आदि विधि करनी चाहिए। अरिहंत परमात्मा के ३४ अतिशय (विशेष प्रभाव) होते है। वाणी के ३५ गुण होते है।। अरिहंत परमात्मा की भक्ति को अपने जीवन में प्रथम स्थान देना है। आज से सोते उठते बैठते आते जाते जब कभी भी हम (हे राम, ए माँ, हे भगवान्) बोलते है उसकी जगह हमे हे अरिहंत प्रभु बोलकर अपनी श्रद्धा को प्रकट करके मजबूत करना है।। परमात्मा की आज्ञा के विपरीत कहा गया हो तो मिच्छामि दुक्कडं। अनंत उपकारी जिनेश्वर एवं गुरु भगवंतों की हमारे उपर असीम कृपा है, जिन्होंने समग्र सृष्टि को कल्याणमय मार्ग- दर्शन किया है !
जिनवाणी सार : तन-मन-धन से समर्पित भाव पूर्वक की गयी आराधना अवश्य ही आत्मा को क्रमश: जिनशासन, स्वर्ग, मोक्ष सुख प्रदान करते हुए परमात्मा भी बनाती है !!

श्री नवपद ओलिजी प्रथम दिवस…

प्रथम दिवस : अरिहंत पद की आराधना…

प्रथम दिवस : श्री अरिहंत पद आराधना
( रंग – सफेद वर्ण ) काऊसग्ग 12 लोगस्स
प्रदिक्षणा -12, खमासमणा -12, स्वस्तिक -12, आयम्बिल : चावल
नवकारवाली -20, नमो अरिहंताणं

अरिहंत पद की पूर्ण पहचान भी आराधना में प्राणवायु का संचार करती है, आराधना को प्राणवंती बनाने के लिए अरिहंत का संक्षिप्त परिचय…

अरिहंत के12 गुण : 8 प्रातिहार्य 4 अतिशय। देवेन्द्रो द्वारा जो कार्य किये जाते है, उन्हें प्रातिहार्य एवं तीर्थंकर नामकर्म के उदय से जो विशेषताए उत्पत्र होती है, उन्हें अतिशय कहा है।

जिसने स्वयं की आत्मा को राग-द्वेष से मुक्त कर केवलज्ञान प्राप्त करके मोक्षगमन किया है। जिसने संसार रूपी वन में आत्माओं को धर्म रूपी भोजन करवाने वाले, वास्तविक कल्याणकारी मार्ग बताने वाले, जन्म मरणादि भय से बचाने वाले, मिथ्यात्वादि शत्रुओं से सरंक्षणकर्ता, मोक्षनगर तक पहुँचाने वाले, इनसे भी अनंत गुण अरिहंत परमात्मा के है।

जगत के सभी जीवों को दुःख से मुक्त कर सुखी बनाने की तीव्रतम इच्छा अरिहंत प्रभु में होती है।

1⃣ प्रथम दिवस : श्री अरिहंत पद आराधना
( रंग – सफेद वर्ण ) काऊसग्ग 12 लोगस्स
प्रदिक्षणा -12, खमासमणा -12, स्वस्तिक -12, आयम्बिल : चावल
नवकारवाली -20, नमो अरिहंताणं

Navpad Oli Day One
Day 1, ARIHANT PAD – means the one who has conquered the inner enemies such as Anger, Gree, Ego, and Deceit.
Arihant is the supreme power of nature. He is the purest soul in the universe with a physical body. Ari means Enemy and Hant means destroyer. Here are internal and these are Raga(Craving or attachment) and Dvesha(Hatred). Hence, Arihant is free from earthly attachments and hatred and referred as Veetraga. He lives in the world with a physical body in perfect equilibrium. He is also universal observer having complete wisdom that is Kevala Jnyana (Omniscience).
Jain worship Arihant Pada in Shukla Saptami, the first day of Navapad Oli. They perform Ayambil by eating boiled rice only. Color of Arihant is white, hence the grain chosen for Ayambil is white i.e. rice. They also pray, worship and meditate for Arihant during the day.

SHREE NAVPAD OLI
PRATHAM DIN:

Raag dwesh se rahit
Dharm shasan ke pravartak
shree Arihant prabhu ki Aradhana ka din…

EK PARICHAY SHREE ARIHANT PRABHU KA

Hume jo bhi sukh dukh ki prapti hoti hai wo humare karm ke karan hoti hai
Hum jaisa karm karte hai hume aisa fal prapt hota hai
Punya se sukh or paap se dukh prapt hota hai

paap punya dono se mukt milti hai tab shaswat sukh ki prapti hoti hsi

Sarv jeevo ko
dukh or karmo se
mukt kar ke moksh me
le jane ki sarvottam bhavna ke sath purv ke
3rd bhav me
shree arihant prabhu ki atma 20 sthanak tap karke TIRTHANKAR NAAM KARM
NIKACHIT karti hai..

Tirthankar naam karm nikachit karne ke baad
shree arihant prabhu ke
3 bhav hote hai
1-MANAV
2-Dev/narak
3-Manav

Antim manav bhav me
14 seapn suchit
mata ke garbh ka
kaal purn karke
is pruthiv par
avatarit hote hai..

Garbh kaal se hi
1-Matignyan
2-Shrutgnyan
3-Avadhignyan se
yukt hote hai

Yuvan vay me
sansar ka tyag karke
diksha lekar
4-MANAH PARYAV GNYAN or
ghor tap kar
upasarg sahkar
5-KEVAL GNYAN ko prapt karte hai

Atma ke
anant guno ka samavesh
8 mukhya guno me
ho jata hai
Ye 8 gun,8 karmo se
dhanke huye hai,
Is karan hume apne guno ki anubhuti nahi hoti

Shree arihant prabhu
sadhna se karmo ka
nash karte,
pratham 4 havy ghati karmo ka nash karte hai,
tab unhe keval gnyan ki prapti hoti hai

Keval gnyan ke baad
dharm tirth ki
sthapana kar ke
bhavya jevo ko sanmarg bstakar baki ayushya purn kar mukti prapt karke siddh bante hai..

Siddh prabhu
8 karmo se mukt hai or
Arihant prabhu
4 karmo se
Phir bhi
pratham vandan Shree Arihant ko karte hai
kyuki
Siddh prabhu
janm dene wali
mata ke saman hai or
arihant prabhu
Palan karne wali
mata ke saman..

Janm dene se,
palan karne wali
mata mahan hai

JAY VITRAG..
JAY ARIHANT..

Aa Chhe Arihant Amara..!
〰〰〰〰〰〰〰
Jagat Na Jiv Matra Par Karunano Dhodh Vahavnara..!

Dushman Ne Pan Prem Thi Xem Kushal Puchhnara..!

Jat Mate Kathor Ane Jagat Mate Komal..!

Kamkumbh-Kamdhenu-Chintamani Ane Parasmani Karta Atyant Prabhav Vanta…!

Panch Kalyanako Vade Jagatna Jivone Anandit Karnara..!

Narak Na Jivo Ne Pan Sukhakari…!

Adhi-Vyadhi-Upadhi Talnara…!

Tan Na Tap Ane Man Na Santap Mitavnara..!

Jivan Ma Shanti..Maran Ma Samadhi…Parbhave Sadgati…Parampara E Sidhdhgati Denara..!

12 Gunothi Yukt Ane 18 Doshothi Rahit…!

Je Sona-Chandi-Rupana Gadh Ma Besine Dev-Manav-Janvar Ne Deshna Denara..!

Jeone Pankhi Pan Akash Ma Pradaxina Ape… Ane Gheghur Vadlao Pan Zuki Jay..!

Asankhya Devo Ane Indro Pan Jena Charan Na Das Bani Jay…!

Bhav Na Bhagakar Ane Gun Na Gunakar Karave…!

Anant Anant Vandan Ho E Arihant Bhagvantone…!

Arihant Pad No Ayambil No Pratham Divas Mangal May Ho…!

Arihant
〰〰〰

01:- Arihant Padno Varn Kevo Hato? Shwet

02:- Arihant Bhagwan Ni Mata Nu Nam? Karuna

03:- Arihant Bhagwan Na Hath Pag Na Lakshan Ketla? 1008

04:- Arihant Bhagwan Na Mukhy Shisyo Ne Shu Kahevay? Gandhar

05:- Arihant Bhagwan Na Lohi Nu Varna Kayu Gun Batave Chhe? Vatshale

06:- Arihant Bhagwan Samany Thi Ketla Musti Loch Kare ? Paach ( 5 )

07:- Pakshio Pan Arihant Bhagwan Ne Shu Aape? Prdhakshina

08:- Arihant Vandnavali No Gujranuvad Kone Karyo? Shri Chandra

09:- Prabhu Na Samvsharan Ma Sona No Gadh Kone Banave Chhe? Jyotishk Dev

10:- Arihant Bhagwan Chale Tyare Kata Kevi Sthiti Kare? Udtha Thay

11:- Diksha Samye Bhagwanna Khabha Par Indra Maharaj Shu Nakhe? Dev Dusya

12:- Tirthankar Nam Karma Sena Thi Bandhay? Vis Shanak Tap Thi

13:- Arihant Prabhu Ketla Mukhe Desna Aape? Chhar ( 4 )

14:- Arihant Prabhu Ne Kai Lesya Hoy? Shukla

15:-Arihant Bhagwan Ketla Tatvana Updeshak Chhe? Nav ( 9 )

16:- Arihant Bhagwan Ni Vani Ketla Gunyukt Hoy? 35

17:- Arihant Bhagwan Ni Mata Ketla Swapno Jue? 14

18:- Arihant Bhagwan Ketla Atishyo Thi Shobhe? 34

19:-Arihant Bhagwan Gandhrone Su Aape? Tripadi

20:- Arihant Bhagwan Ne Diksha Leta Kayu Ghyan Pragte? Man:Paryav

21:- Arihant Bhagwan Shena Par Besi Deshna Aape? Samavshran

22:- Arihant Bhagwan Vichre Tyre Ketla Suvarn Kamal Devo Rache? 9

23:- Arihant Prabhu Ae Ketla Karmno Shay Karyo Hoy? Chhar ( 4 ) Ghati

24:- Arihant Bhagwan Na Gun Ketla ? Baar ( 12 )

25:- Arihant Bhagwan Nu Sthan Paswat Kram Thi Navkar Ma Kaya Pade Aave? 9

Related Articles

× CLICK HERE TO REGISTERer