श्री घंटाकर्ण महावीर विध्न विनाशक मंत्र | Ghantakarna Mahaveer Mantra

श्री घंटाकर्ण महावीर  विध्न विनाशक मंत्र | Ghantakarna Mahaveer Mantra

श्री घंटाकर्ण महावीर विध्न विनाशक मंत्र | Ghantakarna Mahaveer Mantra

ઘંટાકર્ણ મંત્ર – ૧ घंटाकर्ण विध्न विनाशक मंत्र

ॐ घंटाकर्णो महावीर सर्व व्याधि विनाशक । विस्फोटक भये प्राप्ते रक्ष रक्ष महाबल ॥
यत्र त्वं तिष्ठसे देव लिखितोऽक्षर शक्तिभिः ।
रोगास्तत्र प्रणश्यंति वात पित्त कफोद्भवाः ।।
तत्र राज भयं नास्ति यांति कर्णे जपात्क्षयम् ।
शाकिनी भूत वेताला राक्षस प्रभवंति न ।
नाकाले मरणं तस्य न च सर्पिणी डश्यते ।
अग्नि श्चौर भयं नास्ति
ह्रीम् घंटाकर्णोनमोस्तुते ठः ठः ठः स्वाहा ॥

यह मंत्र का जाप आधी व्याधि उपाधि को दूर करने के लिए 108 बार करे ।
२७ वार पाठ करने से सभी प्रकार के भय एवं कष्ट दूर होते हैं।

 

मंत्र – 2 घंटाकर्ण चमत्कारि मंत्र
॥ ॐ हरी श्री क्ली ब्लूँ ही घंटाकर्णो नमोस्तुते ॐ

 

मंत्र : 3 घंटाकर्ण लक्ष्मी प्राप्ति मंत्र
॥ ॐ ही श्री क्ली क्रौं ॐ घंटाकर्ण महावीर
लक्ष्मी पूरय पूरय सुख सौभाग्यं कुरू कुरू स्वाहा ॥

Related Articles

× CLICK HERE TO REGISTERer