Latest News Read More...

Latest Articles Read More...

  • श्री घंटाकर्ण महावीर विध्न विनाशक मंत्र | Ghantakarna Mahaveer Mantra

    ઘંટાકર્ણ મંત્ર – ૧ घंटाकर्ण विध्न विनाशक मंत्र ॐ घंटाकर्णो महावीर सर्व व्याधि विनाशक । विस्फोटक भये प्राप्ते रक्ष रक्ष महाबल ॥ यत्र त्वं तिष्ठसे देव लिखितोऽक्षर शक्तिभिः । रोगास्तत्र प्रणश्यंति वात पित्त कफोद्भवाः ।। तत्र राज भयं नास्ति यांति कर्णे जपात्क्षयम् । शाकिनी भूत वेताला राक्षस प्रभवंति न ।…

    Read More...
  • Aacharya Shri Vajra Swami

    आचार्य श्री वज्रस्वामी जी |  આચાર્ય શ્રી વજ્રસ્વામી  | Aacharya Shri Vajra Swami Article in Hindi Gujrati English आचार्य श्री वज्रस्वामी जी अवन्ति (मालवा) देश में तुङ्गवन नामक एक कस्बे (गांव) में एक व्यापारी धनकुबेर-धनगिरी जिनको, दीक्षा के उत्कृष्ट भाव होते हुए भी, स्वेच्छा से धनपाल शेठ की पुत्री सुनंदा…

    Read More...
  • खंभात का इतिहास । History of Cambay (Khambhat)

    Cambay History खंभात के 73 जिनालय के इतिहास जानते है। कहा है वो दिन ? जब खंभात के 84 बन्दरगाहों पर धव्ज हमेशा के लिए लहरायाँ करते थे । 1. यहा कुमारपाल राजा को छुपाया गया था। जहाँ से शासन प्रभावक बने ऐसे कलिकाल सर्वज्ञ श्री हेमचंद्रचार्य के पावनकारी पगलिये…

    Read More...
  • Vardhaman Shakrastav Stotra | श्री वर्धमान-शक्रस्तव

    पूज्य आचार्य श्री विजय सिद्धसेन-दिवाकर सूरि विरचित   श्री वर्धमान-शक्रस्तव (Vardhaman Shakrastav)   कृतज्ञताके छे वाक्यो   जयतु जयतु नित्यं श्री वीतराग ।।   जयतु जयतु नित्यं श्री वर्धमान शक्रस्तव।। जयतु जयतु नित्यं श्री शकेन्द्र महाराजा।। जयतु जयतु नित्यं श्री सिद्धसेन दिवाकर सूरी।। जयतु जयतु नित्यं श्री श्रुतवाणी॥    …

    Read More...
  • Moti Shanti | Badi Shanti | Bruhad Shanti
    Moti Shanti | Badi Shanti | Bruhad Shanti

    Bruhand Shanti , Badi Shanti , Moti Shanti , Jain Shanti Path Lyrics भो भो भव्या! श्रृणुत वचनं, प्रस्तुतं सर्वमेतद्, ये यात्रायां त्रि-भुवन गुरो-रार्हता! भक्ति-भाजः! तेषां शांतिर्भवतु भवतामर्हदादिप्रभावा, दारोग्य-श्री धृति-मति-करी क्लेशविंध्वंस- हेतुः ॥1॥   भो भो भव्यलोकाः इह हि भरतैरावतविदेहसंभवानां समस्ततीर्थकृतां जन्मन्यासन-प्रकम्पानन्तर-मवधिना विज्ञाय, सौधर्माधिपतिः सुघोषा घण्टा-चालनानन्तरं सकल-सुराऽसुरेन्द्रैः सह समागत्य सविन-मर्हद्…

    Read More...
  • 6 Leshya | छह लेश्या

      Mental Attitude (Leshya) 6 लेश्या In the Jainism, there is a great deal of importance given to the leshya. A leshya refers to the state of mind, mental attitude. Our activities reflect our attitude. The following illustration shows how our activities vary with the states of our attitude. Once…

    Read More...
  • Vitrag Stotra
    Vitrag Stotra

      Vitrag Stotra Founder : Kalikal Sarvagya Aacharya Dev Hemchandra Suriji Maharaj रचनाकार : कलिकाल सर्वज्ञ आचार्य देव श्रीमद विजय हेमचंद्राचार्य जी  इस स्तोत्र को हेमचंद्राचार्य जी ने कुमारपाल महाराजा को परमात्मा की भक्ति करने के लिए अर्पित किया था |  ◆ प्रतिदिन सुबह कुमारपाल महाराजा इनका पढन करते थे…

    Read More...
  • Jain Quiz on mother
    Jain Quiz on mother

    1 पैसठ हजार पीढी  देखने वाली माता मरूदेवी माता 2 मृगापुत्र की माता मृगाजी 3 लक्ष्मण जी की माता सुमित्राजी 4 पारस प्रभुजी की माता वामादेवीजी 5 प्रियदर्शनाजी की माता यशोदा जी 6 अभयकुमारजी की माता नंदाजी 7 श्रमण की माता अष्टप्रवचन माता 8 भगवान महावीर स्वामी की माता  …

    Read More...
  • Jain Quiz of Brothers

    1️⃣ एक भाई सिद्ध का पडोसी तो दूसरा नरक का वासी  ️ पुंडरिक जी — कुंडरिक जी   2️⃣ *घर का भेदी लंका ढाये,,, कौन है यह भाई ️ विभीषन जी   3️⃣ ओ मेरे भाई आप बड़े हो… छोटे भाई की पत्नी पर आसक्ति सही नही है युगबाहु जी…

    Read More...
  • Arjun Mali Story | Jain Story
    Arjun Mali Story | Jain Story

    Arjun Mali   There lived a gardener named Arjun in Rajgrih like a home of all treasures. Skandashri was his dear and beautiful wife. Arjun gardener’s clan deity named Mudgar Pani Semi-gold having a hammer in his hand was living near by Arjun gardener’s gate of the garden. Arjun gardener…

    Read More...

Latest Thoughts Read More...

Latest Videos View More...